parmanu attack: अगर भारत-पाक के बीच युद्ध होता है तो क्या होगा? इससे केसे बच्चे!

parmanu attack अगर भारत-पाक के बीच युद्ध होता है तो क्या होगा? इससे केसे बच्चे! Healthonhindi 


Ind vs pak war attack air strike, ipl 2019, parmanu Fullmaza, Healthonhindi, wiki

अगर भारत और पाकिस्तान में परमाणु युद्ध हुआ तो इसके अंजाम से दोनों देश दहल सकते हैं भारत की नीति पहले परमाणु हथियारों का उपयोग ना करने की है लेकिन अगर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आएगा तो भारत को ऐसा करना पड़ेगा लेकिन इसका निशाना दिल्ली, मुंबई, चंडीगढ़, मेरठ आगरा जैसी कोई सैन्य महत्व वाली जगह को रखा जाएगा. परमाणु युद्ध से लगभग 12 करोड़ लोग तुरंत प्रभावित हो सकते हैं. इसके अलावा इस परमाणु बम से ये 5 प्रभाव हो सकते हैं.

पहला प्रभाव 


जिस जगह आणविक/परमाणु विस्फोट होगा उस क्षेत्र में तीक्ष्ण चमक के साथ भयानक आग का गोला भी उठेगा जो कई मील तक बहुत कुछ जलाकर खत्म कर देगा. हालांकि यह परमाणु प्रक्षेपास्त्र की क्षमता पर निर्भर होगा लेकिन आणविक विस्फोट से उत्पन्न होने वाली चमक इतनी तेज होगी कि इससे लोग अंधे भी हो सकते हैं. इससे उठने वाला आग का गोला वातावरण की सारी हवा रो अपनी ओर खींचकर कई मीलों तक वातावरण को वायुशून्य कर देगा. इसके संपर्क में आने वाले इंसानों, प्राणियों की मृत्यु विदारक ढंग से होगी, वे जीवित ही अंदर से जल जाएंगे, भीषण तपिश से उनकी हड्डियां तक गल जाएंगीं. अगर परमाणु आयुध 6 मेगाटन से ज्यादा हुआ तो इसका परिणाम बहुत ही भयंकर होगा.

दूसरा प्रभाव


परमाणु विस्फोट से निकलने वाला कार्बन से बना बादल थोड़े ही समय में आघात क्षेत्रों के अलावा बहुत बड़े क्षेत्र में फैल सूर्यकिरणों को पृथ्वी पर आने से रोकेगा और इन काले बादलों से होने वाली अम्ल वर्षा से लाखों लोग मर सकते हैं. वैज्ञानिकों के मुताबिक, इस बादल को छंटने में कई साल लग जाते हैं और इस प्रक्रिया में इससे ये वर्षा लगातार होती रहती है.

तीसरा प्रभाव


ऐसा माना जा रहा है कि परमाणु विस्फोट से ओजोन परत में भारी नुकसान होगा. कार्बन से बने बादल धरती की कुल 25-40 से लेकर 70 प्रतिशत ओजोन परत को नष्ट कर देंगे और इसके बाद अंतरिक्ष से आनी वाली पराबैंगनी किरणों से मानवजाति और वनस्पति के अस्तित्व पर भी गंभीर प्रभाव होंगे. इस परिवर्तन से दुनिया में अम्लीय वर्षा और धूलभरे तूफानों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि होगी. साल 1930 के दशक में अमेरिका के टैक्सास और एरिजोना में धूलभरे तूफानों ने इन प्रांतों की फसलों को तबाह कर दिया था और इसके बाद अमेरिका में बहुत ज्यादा आर्थिक तंगी आ गई थी.

चौथा प्रभाव


परमाणू युद्ध के बाद हुए व्यापक विध्वंस और जनहानि के बाद सरकार को फिर से आर्थिक, सामाजिक ढांचा खड़ा करना होगा जिसके लिए कई दशक लग जाएंगे. बेरोजगारी, गरीबी, भुखमरी से अपराध और जातीय संघर्ष बढ़ेंगे, जिससे आंतरिक सुरक्षा और कई समस्याएं खडी हो सकती हैं.

पांचवा प्रभाव


ऐसा माना जाता है कि आर्थिक हानि तो कोई एक बार सह सकता है और उसे आगे चलकर ठीक भी किया जा सकता है लेकिन इस युद्ध में जो अकल्पनीय जनहानि होगी उसका अनुमान लगाना बहुत ही मुश्किल है. न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, अगर भारत-पाक के बीच परमाणु युद्ध हुआ तो 1.5 करोड़ लोग तुरंत अपनी जान गंवाएंगे और अगले 20 सालों तक इसके जानलेवा परिणाम करोड़ों दूसरे लोगो की जान लेंगी. इसके अलावा एक और आशंका है कि भारत-पाक में परमाणू युद्ध हुआ तो मानवजाति के अस्तित्व पर भी संकट खड़ा हो सकता है.

परमाणु हमले से बचने के उपाय - 

परमाणु बम (nuclear bomb) दुनिया के सबसे घातक हथियारों में से एक है. अगर परमाणु बम कही गिरता है तो वहां सब कुछ तबाह हो जाता है. जिस तरह से ताकतवर देशों में एक दूसरे से आगे बढ़ने होड़ सी लगी है उससे कही न कही इंसानों का ही नुकसान होने वाला है! 

हम सभी को पता है कि परमाणु बम (nuclear bomb)का हमला एक बार हो चुका है और ये हमला अमेरिका ने द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान अगस्त 1945 को जापान के दो शहरों हिरोशिमा और नागासाकी में किया था. ये दोनों शहर पूरी तरह से बर्बाद हो गए थे. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की जिस जगह परमाणु बम गिरे थे वहां के कई बच्चे आज भी विकलांग पैदा हो रहे है. हम सभी तो यही चाहते है कि भविष्य में कभी परमाणु बम का उपयोग न हो लेकिन फिर भी हम सभी को इससे बचने के उपाय जान लेना चाहिए.

अगर परमाणु हमला होने की आशंका हो जाती है तो देश के बड़े नेता सेना के बंकर में शरण ले सकते है वही शहर के लोग अंडरग्राउंड मेट्रो का सहारा ले सकते है. लेकिन इसके चांस भी बहुत कम है क्योंकि अंडरग्राउंड मेट्रो हर शहर में नहीं है. जहाँ परमाणु बम गिरता है वहां के लोगो का बचना असंभव है लेकिन अगर आप परमाणु केंद्र से कई किलोमीटर दूरी पर है तो आप बच सकते है इसलिए आपको परमाणु हमले से बचने के उपाय पता होना चाहिए.

परमाणु हमले से बचने के उपाय- अगर आपके आस पास कही परमाणु बम का हमला हो तो उसके केंद्र को कभी भी अपनी आँखों से नहीं देखना चाहिए क्योंकि इससे आपकी आँखे हमेशा के लिए खराब हो सकती है.
अगर परमाणु हमला हो जाये तो तुरंत किसी मजबूत बिल्डिंग के बेसमेंट शरण लेना चाहिए.
हमले की स्थिति में अगर किसी के पास रेडियो है तो उसे अपने साथ रखना चाहिए क्योंकि परमाणु हमले से सब कुछ ख़त्म हो जाता है लेकिन जो राहत कार्य की पहली खबर मिलती है वो पहले रेडियो में ही मिलती है.
हमले होने के बाद अगर आप किसी सुरक्षित जगह में पहुँच गए है तो जब तक राहत कार्य की कोई खबर न मिले तब तक सुरक्षित जगह से बिलकुल भी न निकले क्योंकि हमला होने के बाद आस पास रेडिएशन फ़ैल जाता है जो किसी की भी जान ले सकता है.
अगर किसी पर रेडिएशन का असर हो गया है तो उस पर लगातार खून की उल्टी होना, मितली आना, चक्कर आना, डायरिया ना रूकना, सर दर्द या बुखार होना, कमजोरी बने रहना, बाल उड़ जाना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं

अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो share करो अपने family और friends को! Thank you 

Post a Comment

6 Comments